मंगलवार, 9 फ़रवरी 2021

फेक न्यूज़ कोरोना टीकाकरण के बारे में

 आज सुबह जब हमारी कपड़ेवाली अम्मा घर आई, तो कुछ हैरान परेशान सी थी. 

मैंने कारण जानना चाहा तो, वो चुप ही थी,फिर जब उससे पूछा क्या हुआ, अम्मा. 

उसने बताया की उसे रास्ते में कोई परिचित मिला था,और बता रहा था के कल  

जिसको कोरोना का टीका लगा था,आज उसकी हालत अच्छी  नहीं है. 

मुँह से झाग निकला और तबीयत खराब हो गयी है.उस परिचित का तो यहाँ तक कहना 

था के अब उनका बचना मुश्किल ही है. मैं ने अम्मा को समझाया की  ऐसा कुछ नहीं है,

हम ने तो कहीं ये बात नहीं सुनी या पढ़ी .  wattsapp पर तो बोहोत झूठी व भ्रामक जानकारी मिलती है .

मैंने गूगल में सर्च करने का निर्णय लिया, गूगल सर्च के ज़रिए हम फेक न्यूज़ का पता लगा सकते हैं. 

गूगल सर्च ,में जो जानकारी सामने आई, वो बड़ी चौकानेवाली थी . इस तरह की फेक न्यूज़ कोरोना टीकाकरण के बारे में तो सारी दुनिया में फेली हुई है. 

गूगल सर्च ,में जो जानकारी सामने आई, वो बड़ी चौकानेवाली थी . इस तरह की फेक न्यूज़ कोरोना 

टीकाकरण के बारे में तो सारी दुनिया में फेली हुई है. 

आज ज़रूरत इस बात की है की हम आम जनता तक ये बात पहुँचायें की कोरोना का टीका लगाना  

कितना ज़रूरी है. 

लोगों को इतनी ग़लत जानकारी मिल रही है,की सरकार द्वारा फिर किए जा रहे प्रयास सफल नहीं हो सकते हैं. इन सब बातों  का सब से बड़ा नुकसान ग़रीब और कम पढ़े लिखे लोगों को होगा . 


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें